DelhiINDIA

OPINION | These are Arvind Kejariwal’s Brahmastra

OPINION | ये हैं अरविन्द केजरीवाल के ब्रह्मास्त्र

 OPINION | These are Arvind Kejariwal’s Brahmastra: पुराने बस्ते से आज फिर वही पुराने हथियार निकाले जा रहे जिन हथियारों से अन्ना को धोखा दिया गया, जिन हथियारों से संतोष कोली जैसे सवाल उठाने वाले को शांत कर दिया गया, जिन हथियारों से प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव को बाहर किया गया, जिन हथियारों से कुमार विश्वास का घर परिवार तक तोड़ने की नौबत ला दी गयी.

 OPINION | These are Arvind Kejariwal's Brahmastra ईमानदारी के मसीहा की जुबान बंद है. आँखों से चमक गायब है और बॉडी लैंग्वेज में निराशा और आत्मविश्वास ज़ीरो. अरविन्द केजरीवाल चुप है, लेकिन ये समझना भूल होगी कि वो शांत बैठे हैं.

ये है अरविन्द केजरीवाल के ब्रह्मास्त्र – झूठ, छल. फरेब और साजिश : कपिल मिश्रा

 OPINION | These are Arvind Kejariwal's Brahmastra अन्ना के साथ जो हुआ, प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव जी के साथ जो हुआ वो लगभग लगभग सभी लोगों की

जानकारी में हैं, लेकिन संतोष की हत्या और अरविन्द केजरीवाल की भूमिका के बारे में जो बातें संतोष की माता जी, पिता जी और उनके भाई बता रहे हैं उससे लगता है कि ये साजिश शायद इस देश में हुयी राजनैतिक हत्याओं और साजिशों के सबसे गहरे छुपे हुए राज में से एक है.

कुमार विश्वास पर जब एक महिला छेड़खानी के आरोप लगाती है, एक के बाद एक कभी उनके पुराने वीडियो निकाले जाते हैं चुनाव प्रचार से रोकने के लिए, उनके चरित्र के बारे में ऐसे किस्से उछाले जाते हैं जिनकी आग कुमार विश्वास के घर तक पहुँचती है, अख़बारों में, टीवी में किस्से फैलाये जाते हैं, सोशल मीडिया में दुष्प्रचार किया जाता है. ये चरित्र हत्या की और राजनैतिक रूप से ख़त्म करने की कोशिशें आखिर कहाँ से हुयी? केवल कुछ ही लोग जानते हैं कि वो ईमेल जो कुमार विश्वास और एक महिला के सम्बन्ध के बारे में सारे कार्यकर्ताओं और ग्रुप्स में सबसे पहले भेजी गयी उसका IP एड्रेस अरविन्द केजरीवाल के घर का था.
 OPINION | These are Arvind Kejariwal's Brahmastra आज कुमार भाई इस बारे में कहेंगे या नहीं, ये मुझे नहीं मालूम, लेकिन वो रिपोर्ट जिसमें ये बात स्पष्ट थी कि ये ईमेल और बाकी ज्यादातर दुष्प्रचार अरविन्द केजरीवाल के घर से ही भेजा और फैलाया गया, वो रिपोर्ट आज भी कुमार भाई के पास है.

पिछले दिनों जो सोशल मीडिया में कुमार विश्वास के खिलाफ दुबारा गालियां और दुष्प्रचार शुरू किया गया, जब अमानतुल्ला से कुमार विश्वास के खिलाफ बयान दिलवाया गया, जब सस्पेंड होने के बावजूद अमानत के घर खुद मनीष सीसोदिया और संजय सिंह समझाने के लिए पहुंचे, तबसे अब तक जो लोग कुमार विश्वास को लगातार सोशल मीडिया पर गालियां दे रहे हैं और पार्टी से निकालने की बात कर रहे हैं उनमें से ज्यादातर को अरविन्द केजरीवाल और मनीष सीसोदिया  खुद फॉलो करते हैं, RT करते हैं. इन सभी कामों के लिए इंटरनेट भी मुख्यमंत्री निवास का इस्तेमाल किया गया है.

मनीष सीसोदिया ने अपने बरसों पुराने कार्यकर्ता जो कुछ सालों से उनकी गाड़ी भी चला रहा था उसे केवल इस बात पर अलग कर दिया कि उसने कुमार विश्वास के समर्थन में एक ट्वीट कर दिया था और अरविन्द केजरीवाल इस बात से गुस्सा हो गए थे, उन्हें मनीष सीसोदिया पर ही शक हो गया था. अपनी वफादारी साबित करने के लिए एक कार्यकर्ता की बलि चढ़ा दी गयी.

झूठे वीडियो, ईमेल, सोशल मीडिया में वायरल होने वाली कहानियां, डराना, हमले, राजनैतिक साजिश और हत्यायें, खुद को बेबस व बेचारा दिखाना, बस यही हैं अरविंद केजरीवाल के आखिरी बचे हुए ब्रह्मास्त्र.

है लिए हथियार दुश्मन ताक में बैठा उधर,
और हम तैयार हैं सीना लिए अपना इधर,

कपिल मिश्रा दिल्ली सरकार के मंत्री थे और आम आदमी पार्टी से निलंबित नेता हैं. 

 OPINION | These are Arvind Kejariwal's Brahmastra

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति p4punjab.com उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार p4punjab.com के नहीं हैं, तथा p4punjab.com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Courtsay : NDTV

Tags
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *